|UK| मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2023: ऑनलाइन आवेदन एप्लीकेशन फॉर्म लाभ व पात्रता

Apply Online Mukhyamantri Vatsalya Yojana Uttarakhand | मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन | UK Vatsalya Yojana Application Form | मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2023 ऑनलाइन आवेदन, एप्लीकेशन फॉर्म लाभ व पात्रता |

कोरोना काल में हुए अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु उत्तराखंड सरकार द्वारा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ 2 जून 2021 को किया गया। इस योजना के माध्यम से बच्चों को आर्थिक सहायता के साथ-साथ शिक्षा भी मुहैया कराई जाएगी। आज हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2023 से जुड़ी संपूर्ण जानकारी जैसे लाभ, विशेषताएं, पात्रता एवं आवेदन की प्रक्रिया स्पष्ट करने जा रहे हैं। Mukhyamantri Vatsalya Yojana से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त करने हेतु हमारे इस लेख को विस्तार पूर्वक पढ़ें।

Table of Contents

Mukhyamantri Vatsalya Yojana Uttarakhand

इस योजना के माध्यम से राज्य में कोरोना काल के कारण हुए अनाथ बच्चों को प्रतिमाह आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाएगी। जिसका उपयोग करके वह अपना भरण-पोषण आसानी से कर सकेंगे। ‌उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत जी के द्वारा कहा गया है कि ऐसे सभी बच्चे जिनके माता पिता की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुई है उन्हें Mukhyamantri Vatsalya Yojana के तहत 21 वर्ष की आयु तक 3000 रुपये की धनराशि जीवन यापन करने के लिए प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता के साथ-साथ बच्चों की शिक्षा पर भी ध्यान केंद्रित करने का निर्णय लिया गया है।

  • इस योजना के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली आर्थिक सहायता सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर के माध्यम से पहुंचाई जाएगी।
  • मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना को आरंभ करने का मुख्य लक्ष्य है कि आर्थिक तंगी के कारण राज्य का कोई भी अनाथ बच्चा शिक्षा प्राप्त करने से वंचित ना रहे।
  • यदि आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको जल्द से जल्द इस योजना के अंतर्गत आवेदन करना होगा।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के मुख्य तथ्य

इस योजना के तहत मुख्य तथ्य कुछ इस प्रकार:-

योजना का नाममुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2023
किसके द्वारा शुरू की गईउत्तराखंड सरकार द्वारा
आरंभ तिथि2 जून 2021
राज्यउत्तराखंड
योजना के लाभार्थीकोरोना काल में हुए अनाथ बच्चे
योजना का उद्देश्यअनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करना
योजना का लाभआर्थिक सहायता के साथ-साथ शिक्षा उपलब्ध कराना
आर्थिक सहायता राशि3,000 रुपये
राशि कब तक मुहैया कराई जाएगी21 वर्ष पूर्ण होने पर
आवेदन की प्रक्रियाऑनलाइन व ऑफलाइन
आधिकारिक वेबसाइटअभी आरंभ नहीं कि गई
UK| मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 2021: ऑनलाइन आवेदन एप्लीकेशन फॉर्म लाभ व पात्रता

पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रन योजना

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का उद्देश्य

जैसे कि हम सब जानते हैं 2020 मैं शुरू हुए कोरोना काल के कारण देश के काफी लोगों की मृत्यु हुई है और ऐसे में उनके बच्चे अनाथ हो गए हैं। अनाथ हुए बच्चों का कोई भी कमाई का साधन नहीं बचा है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना को आरंभ किया गया है। इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है के उन सभी बच्चों को आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाए जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुई है। इस योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता के साथ साथ अनाथ बच्चों को शिक्षा भी मुहैया कराई जाएगी।

  • इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है कि जिन बच्चों का कोई भी अभिभावक नहीं बचा है,
  • उन्हें भरण-पोषण के लिए आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाए।
  • Mukhyamantri Vatsalya Yojana के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली धनराशि-
  • अनाथ बच्चों को 21 वर्ष की आयु पूर्ण होने तक प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है कि राज्य के अनाथ बच्चे आत्मनिर्भर व सशक्त बनें।

प्रत्येक बच्चे को वात्सल्य योजना का लाभ सुनिश्चित किया जाएगा


हाल ही में हुई समीक्षा बैठक के दौरान जिला कलेक्टर जितेंद्र पापलकर द्वारा एक्शन टीम को निर्देश जारी किए गए हैं कि मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का लाभ राज्य के प्रत्येक बच्चे को सुनिश्चित किया जाए। इस प्रक्रिया के लिए तालुका स्तर पर जानकारी एकत्रित की जानी चाहिए और उनकी सूची तैयार होनी चाहिए जिन्होंने अपने माता-पिता को कोविड-19 के समय खोया है। शुभ अवसर के दौरान शीला पुलिस अध्यक्ष के प्रतिनिधि नगर परिषद के अध्यक्ष डॉक्टर अजय कुरवाडे, जिला सर्जन राजेंद्र सूर्यवंशी, सहायक आयुक्त कौशल विकास, जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी एवं कार्य दल के सदस्य सचिव संडे आदि मौजूद थे।

पात्र बच्चों को आवश्यक मिलेगा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना 

उत्तराखंड के मुख्य सचिव जी के द्वारा एक समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत विभिन्न विभागों को निर्देश दिए गए हैं कि चिन्हित बच्चों को जल्द से जल्द लाभ मुहैया कराया जाए। साथ ही साथ सरकार द्वारा निर्देश दिए गए हैं कि राज्य का कोई भी पात्र व्यक्ति मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना से वंचित ना रह पाए। इस प्रक्रिया के नियम बाल विकास विभाग फील्ड में जाकर बच्चों को ट्रैक करते हुए आवेदन करने के लिए उत्साहित करेंगे। और साथ ही साथ निर्देश दिए गए हैं कि मैं सभी बच्चे जिन्हें आवेदन पूर्ण करने में किसी प्रकार की परेशानी आ रही है तो उन्हें अपना आवेदन पूरा करने के लिए विभाग द्वारा सहयोग प्रदान किया जाएगा।

  • अब तक इस योजना के तहत लगभग 1706 बच्चों को Mukhyamantri Vatsalya Yojana के तहत लाभान्वित किया जा चुका है। 
  • तथा शेष अन्य लाभार्थियों को आवेदनों के नियम निर्देश देने के बाद लाभान्वित किया जाएगा।

उत्तराखंड के 149 बच्चों को मिला वात्सल्य योजना का लाभ

सरकार द्वारा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तीसरे चरण की शुरुआत कर दी गई है। और इस चरण में लगभग 149 बच्चों को इस योजना का लाभ मिला है। महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य द्वारा 27 अगस्त 2021 को प्रभावित बच्चों के बैंक खातों में धनराशि हस्तांतरित की गई। मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तीसरे चरण में लगभग डेढ़ हजार से अधिक बच्चों को लाभ प्रदान किया जाएगा। इस योजना के पहले चरण में लगभग 1062 बच्चों के खातों में ₹3000 की धनराशि की गई थी। तथा इस योजना के दूसरे चरण में लगभग 356 बच्चों के खातों में दूसरे चरण की राशि हस्तांतरित की गई। इस योजना के तहत राशि प्राप्त करने के बाद राज्य के बच्चे अपना भरण-पोषण आसानी से कर सकते हैं।

विकासनगर के अनाथ बच्चों को बांटे गए प्रमाण पत्र

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत जी के द्वारा कोरोना काल मैं हुए अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता के साथ-साथ अन्य विभिन्न सहायता प्रदान की जाएंगी। मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत विकास नगर तहसील और ब्लाक सहसपुर में अनाथ बच्चों को प्रमाण पत्र मुहैया कराए गए। यह प्रमाण पत्र अनाथ बच्चों को तहसील के विधायक विकासनगर मुन्ना सिंह चौहान और सहसपुर ब्लॉक में सहसपुर विधायक सहदेव सिंह पुंडीर द्वारा वितरित किए गए। इस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने के बाद राज्य के अनाथ हुए बच्चों के जीवन स्तर में सुधार आएगा एवं वह अपना भविष्य उज्जवल बना सकेंगे।

ऋषिकेश के 10 बच्चों को प्राप्त हुआ प्रमाण पत्र

कोरोनावायरस संक्रमण के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु उत्तराखंड के मुख्यमंत्री जी के द्वारा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत ऋषिकेश तहसील क्षेत्र के लगभग 10 लाभार्थियों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए। साथ ही साथ विधानसभा अध्यक्ष ने इस योजना के तहत विवेकाधीन कोष से 10000 रुपये सहायता देने की घोषणा की गई। यदि आप इस योजना के पात्र हैं एवं लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको जल्द से जल्द इस योजना के तहत आवेदन करना होगा।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत बागेश्वर जिले के 70 बच्चों का चयन हुआ

इस योजना के तहत बागेश्वर जिले के लगभग 22 बच्चों को 3000 रुपये की मदद खाते में हस्तांतरित की गई। इस योजना के अंतर्गत लगभग राज्य के 12 बच्चों को प्रमाण पत्र वितरित किए गए हैं। साथ ही साथ सरकार द्वारा जिले में 70 बच्चों का चयन किया गया है। सीएम के द्वारा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत देहरादून में वर्चुअल कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया। यदि आप भी इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको जल्द से जल्द इस योजना के तहत आवेदन करना होगा। इस शुभ अवसर के दौरान सीडीओ डिग्री पंथ जिला समाज कल्याण अधिकारी हेम तिवारी संतोष जोशी निर्मल बसेड़ा आदि शामिल थे।

तेहरी जिले के 104 बच्चों को मिला मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का लाभ

जैसे कि हम सभी जानते हैं कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत जी के द्वारा कोरोना संक्रमण में कोई अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता एवं अन्य सहायता प्रदान करने हेतु मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत अनाथ बच्चों को माता पिता के खोने पर विभिन्न प्रकार की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी ताकि उनका भविष्य उज्जवल बन सके। इस योजना के अंतर्गत तेहरी जिले के 104 बच्चों को प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। प्रमाण पत्र प्रदान करने के बाद उनके खातों में आर्थिक सहायता हस्तांतरित की गई। ‌ जिला प्रोबेशन अधिकारी द्वारा बताया गया है कि जिले में अब तक 249 बच्चों को चिन्हित किया गया है जिसमें से केवल 104 बच्चों को प्रमाण पत्र मुहैया कराया गया।

उत्तरकाशी के 138 बच्चों को मिला वात्सल्य योजना का लाभ

2 अगस्त 2021 को मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना को उत्तरकाशी में आरंभ किया गया। इस शुभ अवसर के दौरान जिला अधिकारी मयूर दीक्षित एवं प्रमुख भटवाड़ी विनीता रावत ने 12 बच्चों को प्रमाण पत्र वितरित किए। डीएम के द्वारा इस शुभ अवसर पर जिले के 138 बच्चों को इस योजना का लाभ प्रदान किया गया। सरकार द्वारा इस योजना के अंतर्गत पात्र बच्चों को 3000 रुपये की सहायता धनराशि प्रदान की जाएगी।‌ इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है कि राज्य के कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुए अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाए ताकि उनका भविष्य उज्जवल बने।

146 आवेदन महिला कल्याण निदेशालय को भेजे गए

जैसे कि हम सभी जानते हैं उत्तराखंड सरकार द्वारा कोरोनावायरस संक्रमण के कारण प्रभावित बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लक्ष्य से मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत अब तक लगभग 146 आवेदन प्राप्त हुए हैं। इन सभी आवेदनों को राज्य के महिला कल्याण निदेशालय मैं भेजे गए हैं। प्राप्त हुए आवेदन में बच्चों को आर्थिक सहायता के साथ साथ शिक्षा सहायता भी प्रदान की जाएगी। इस योजना के अंतर्गत अलग-अलग तहसील से आवेदन प्राप्त हुए हैं जो कि कुछ इस प्रकार हैं।

तहसीलकुल आवेदन
रामनगर43
कालाढूंगी13
लाल कुआं11
हल्द्वानी39
बेतालघाट9
धारी10
नैनीताल21

प्रधानमंत्री कोरोना केयर फंड योजना

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का हुआ शुभारंभ

जैसे कि हम सभी जानते हैं कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुए अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु उत्तराखंड के मुख्यमंत्री द्वारा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के माध्यम से राज्य के लाभार्थियों को अपना जीवन यापन करने हेतु आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी के द्वारा 2 अगस्त 2021 को मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया। सरकार द्वारा राज्य के लगभग 2311 ऐसे बच्चों का चयन किया गया है जिन्हें इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा। सूत्रों के अनुसार पता चला है कि राज्य के केवल 27% बच्चों को इस योजना का लाभ प्रदान किया जा रहा है।

  • इन बच्चों में से कुल 640 बच्चों के सत्यापन प्रक्रिया पूरी हो चुकी है।
  • जल्द ही बाकी बच्चों की सत्यापन प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा।
  • जैसे जैसे बच्चों की सत्यापन प्रक्रिया पूरी होती रहेगी वैसे ही इन बच्चों को लाभ प्रदान किया जाएगा।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का दायरा बढ़ा

उत्तराखंड सरकार द्वारा राज्य के अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया है। पहले इस योजना के तहत उन सभी बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान की जाती थी जिन्होंने अपने माता-पिता या अभिभावकों को कोविड-19 संक्रमण के कारण खोया है। परंतु हाल ही में ही सरकार द्वारा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत दायरा बढ़ा दिया गया है। सरकार द्वारा इस योजना के तहत अब उन सभी बच्चों को लाभ प्रदान किया जाएगा जिनकी कोविड-19 की जांच कराने से पहले ही मृत्यु हो गई है। इस योजना के तहत अनाथ बच्चों को 21 वर्ष की आयु पूर्ण होने तक आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

  • Mukhyamantri Vatsalya Yojana के तहत मार्च 2020 से लेकर मार्च 2021 तक कुल 2347 बच्चों का चयन किया गया।
  • इस योजना के अंतर्गत 561 बच्चे देहरादून से हैं, टिहरी गढ़वाल से 249 बच्चे हैं, उधम सिंह नगर से 242 बच्चे हैं, हरिद्वार से 230 बच्चे हैं।
  • वही पौड़ी गढ़वाल से 213 बच्चे, नैनीताल के 185, उत्तरकाशी के 120 चिन्हित किए गए हैं।
  • उत्तराखंड के अन्य जिलों में भी बच्चों की चयन प्रक्रिया चल रही है जल्द ही उन्हें भी इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।

उत्तराखंड मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत जारी हुए शासनादेश

9 जून 2021 को हुई कैबिनेट बैठक के दौरान महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग द्वारा इस योजना के तहत निम्नलिखित शासनादेश जारी किए गए हैं:-

  • इस योजना का लाभ उन सभी बच्चों को प्रदान किया जाएगा जिनके माता-पिता की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुई है।
  • सरकार द्वारा इस योजना को एक मार्च 2020 से लेकर 31 मार्च 2022 तक लागू किया जाएगा।
  • कोरोनावायरस संक्रमण के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों को 21 वर्ष की आयु तक इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • उत्तराखंड मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत प्रभावित बच्चों की देखभाल पुनर्वास चल अचल संपत्ति आदि का संरक्षण किया जाएगा।
  • सरकार द्वारा इस योजना के तहत कार्यान्वयन के लिए दिशानिर्देश जल्द ही जारी किए जाएंगे।

शासन को दी जाएगी वात्सल्य योजना के लाभार्थीयो की सूची

उत्तराखंड सरकार द्वारा कोरोना काल में हुए अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लक्ष्य से मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत अब तक 21 आवेदन प्राप्त हो चुके हैं। सीडीओ राजेंद्र सिंह रावत जी के द्वारा सभी आवेदनों को स्वीकृत कर लिया गया है एवं इन आवेदनों को शासन को भेजने के निर्देश जारी कर दिए गए हैं। इन सभी लाभार्थियों का चयन संबंधित तहसील से कर लिया गया है। सीडीओ राजेंद्र सिंह द्वारा कहा गया है कि जल्द से जल्द यह आवेदनों की सूची शासन को भेजी जाए। और साथ-साथ निर्देश जारी किए गए हैं कि इस कार्य में किसी भी प्रकार की लापरवाही को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

वात्सल्य योजना के लाभ से कोई भी पात्र बच्चा वंचित नहीं रहेगा

जैसे कि हम सभी जानते हैं कि उत्तराखंड सरकार द्वारा कोरोना काल में हुए अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया। इस योजना के अंतर्गत अनाथ हुए बच्चों को आर्थिक सहायता के साथ-साथ शिक्षा सहायता भी मुहैया कराई जाती है। परंतु हानि में ही महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास राज्यमंत्री रेखा आर्य के द्वारा निर्देश जारी किए गए हैं कि प्रदेश में कोई भी पात्र बच्चा इस योजना के लाभ से वंचित ना रहे। मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा गंभीरता से कदम उठाए जा रहे हैं। अब राज्य कि वह सभी बच्चे जिन्होंने कोरोनावायरस संक्रमण के कारण अपने माता पिता को खोया है उन्हें अपना जीवन यापन करने के लिए आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाएगी।

  • अधिकारी द्वारा निर्देश जारी किए गए हैं कि इस योजना कल आप प्रदान करने के लिए घर-घर जाकर भौतिक सत्यापन किया जाए,
  • ताकि संबंधित बच्चों का डाटा स्वराज पोर्टल पर उपलब्ध हो सके।
  • एवं साथ साथ अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि 30 जून तक जिला प्रोबेशन अधिकारी कार्यालय में उन सभी के अभिलेखों को जमा किया जाए जिन्होंने अपने माता पिता को खोया है।
  • सरकार द्वारा निर्देश जारी किए गए हैं कि जुलाई के प्रथम सप्ताह से ही बच्चों को आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाएगी।
  • इस बीच यदि इन बच्चों को सहायता नहीं प्राप्त होती है तो वह दिए गए हेल्पलाइन नंबर 1098 पर कॉल करके सहायता प्राप्त कर सकते हैं |

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का कार्यान्वयन

उत्तराखंड सरकार द्वारा कोविड-19 संक्रमण के कारण हुए अनाथ बच्चों को 3000 रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया है। इस योजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन की जिम्मेदारी सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग को सौंपी गई है। इस योजना को सरकार द्वारा एक बड़े दायरे पर बनाने की तैयारी की जा रही है। मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना को आरंभ करने का मुख्य लक्ष्य है कि उन बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करना जिनके माता-पिता में से किसी एक की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुई है। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के साथ-साथ निशुल्क शिक्षा भी मुहैया कराई जाएगी।

  • इसके अलावा यदि किसी बच्चे के माता-पिता मे से किसी एक की मृत्यु किस एक कि अन्य कारण हुई है,
  • एवं किसी दूसरे की कोरोनावायरस के कारण हुई है तो उन बच्चों को भी इस योजना के अंतर्गत शामिल किया जाएगा।
  • Mukhyamantri Vatsalya Yojana के माध्यम से बच्चों को आर्थिक सहायता शिक्षा सहायता एवं स्वास्थ्य सुविधाएं भी मुहैया कराई जाएंगी।
  • इसके संबंध में आयोग द्वारा सचिव विभाग को निर्देश जारी किए गए हैं।

सरकारी योजनाओं की सूची

Mukhyamantri Vatsalya Yojana Other Benefits

उत्तराखंड सरकार द्वारा राज्य के अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता मुहैया कराने के लिए मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना शुभारंभ किया गया है। इस योजना के अंतर्गत यदि माता-पिता में से किसी एक अभिभावक की मृत्यु कोरोना संक्रमण के कारण हुई है तो उस बच्चे को आर्थिक सहायता के साथ-साथ शिक्षा सहायता भी मुहैया कराई जाएगी। सरकार द्वारा इन बच्चों को इन सभी सुविधाओं के साथ-साथ सरकारी नौकरियों में 5% का कोटा प्रदान करने का निर्णय लिया गया है। इसके अलावा इन बच्चों की पैतृक संपत्ति के लिए भी सरकार द्वारा कुछ घोषणाएं की गई हैं।

  • सरकार द्वारा बताया गया है कि बच्चों की पैतृक संपत्ति को बेचने का अधिकार बच्चे के 18 वर्ष हो जाने तक किसी को भी नहीं दिया जाएगा।
  • यह जिम्मेदारी सरकार द्वारा जिले के जिला अधिकारी को सौंपी गई है।
  • साथ-साथ सरकार द्वारा Mukhyamantri Vatsalya Yojana के अंतर्गत बच्चों को रोजगार प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के लाभ

इस योजना के लाभ निम्नलिखित हैं:-

  • इस योजना के अंतर्गत उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण के कारण हुए अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए शुरू किया गया है।
  • आर्थिक सहायता के साथ-साथ सरकार द्वारा उन बच्चों को निशुल्क शिक्षा भी मुहैया कराई जाएगी।
  • मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का लाभ राज्य के उन बच्चों को प्रदान किया जाएगा,
  • जिन बच्चों के माता-पिता में से किसी एक की मृत्यु कोरोना संक्रमण के कारण हुई है।
  • इस योजना का कार्यान्वयन एक बड़े दायरे पर किया जा रहा है।
  • इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा घोषणा की गई है कि,
  • बच्चे की पैतृक संपत्ति को बच्चे के व्यस्क होने से पहले किसी को बेचने का हक नहीं है।
  • इन सुविधाओं के साथ-साथ सरकार द्वारा योजना के अंतर्गत बच्चों को 5% कोटा सरकारी नौकरियों में प्रदान किया जाएगा।
  • इसके अलावा Mukhyamantri Vatsalya Yojana के अंतर्गत बच्चों को रोजगार प्राप्त करने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रशिक्षण मुहैया कराए जाएंगे।

Features Of Mukhyamantri Vatsalya Yojana

इस योजना के तहत विशेषताएं निम्नलिखित हैं:-

  • राज्य के कोरोना संक्रमण के कारण हुए अनाथ बच्चों को आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु,
  • उत्तराखंड सरकार द्वारा मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना का शुभारंभ किया गया है।
  • इस योजना की शुरूआत राज्य सरकार द्वारा जून 2021 में की गई थी।
  • इस योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है कि कोरोना काल में हुए अनाथ बच्चों को:-
  • उनके भरण-पोषण के लिए प्रतिमाह आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जा सके।
  • सरकार द्वारा निर्णय लिया गया है कि उन बच्चों को अपना जीवन यापन करने हेतु 3000 रुपये की आर्थिक सहायता मुहैया कराई जाएगी।
  • इसके अलावा उन बच्चों को शिक्षा एवं स्वास्थ्य सुविधाएं भी मुहैया कराई जाएंगी।
  • मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना को आरंभ करने का मुख्य उद्देश्य है कि कोविड-19 संक्रमण के कारण हुए अनाथ बच्चों को आत्मनिर्भर व सशक्त बनाया जा सके।
  • सरकार द्वारा बच्चों को सशक्त बनाने हेतु एक बहुत ही महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया है।
  • इस योजना के अंतर्गत ना केवल आर्थिक सहायता बल के यह भी सुनिश्चित कराया जाएगा कि-
  • बच्चों के पैतृक संपत्ति को बच्चे के व्यस्क होने से पहले कोई और ना बैच सकें।
  • यह जिम्मेदारी सरकार द्वारा जिले के जिला अधिकारी को सौंपी गई है।
  • इस योजना के अंतर्गत आर्थिक सहायता शिक्षा एवं स्वास्थ्य संबंधित सुविधाओं के साथ-साथ बच्चों को रोजगार प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।
  • यदि आप भी Mukhyamantri Vatsalya Yojana का लाभ उठाना चाहते हैं तो आपको जल्द से जल्द इस योजना के अंतर्गत आवेदन करना होगा।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के अंतर्गत आवेदन के लिए पात्रता

वह सभी व्यक्ति को इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं उन्हें निम्नलिखित पात्रता को पूरा करना होगा:-

  • आवेदक उत्तराखंड का स्थाई निवासी होना अनिवार्य है।
  • उम्मीदवार का खुद का बैंक खाता होना अनिवार्य है
  • इस योजना के अंतर्गत केवल उन्हीं बच्चों को लाभ प्रदान किया जाएगा जिनके माता-पिता या अभिभावक की मृत्यु कोरोनावायरस संक्रमण के कारण हुई है।

Mukhyamantri Vatsalya Yojana Important Documents

इस योजना के तहत महत्वपूर्ण दस्तावेज कुछ इस प्रकार हैं:-

  • आधार कार्ड
  • राशन कार्ड
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • आय प्रमाण पत्र
  • आयु प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • माता पिता का मृत्यु प्रमाण पत्र
  • यदि अभिभावक है तो अभिभावक का मृत्यु प्रमाण पत्र

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के अंतर्गत ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया

राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के अंतर्गत आवेदन करना चाहते हैं तो उन्हें बता दें कि अभी सरकार द्वारा इस योजना को हाल ही में आरंभ किया गया है। एवं इस योजना के अंतर्गत आवेदन की प्रक्रिया को आरंभ नहीं किया गया है। जैसे ही मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के अंतर्गत आवेदन की प्रक्रिया को आरंभ किया जाएगा वैसे ही हम आपको अपने इस लेख के माध्यम से आवेदन की प्रक्रिया के बारे में संपूर्ण जानकारी स्पष्ट करेंगे। यदि तब तक आप को इस योजना से संबंधित कोई भी कठिनाई है मन में कोई भी प्रश्न आता है तो आप हमसे नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया

राज्य के जो इच्छुक लाभार्थी मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत आवेदन करना चाहते हैं उन्हें नीचे दिए गए चरणों का पालन करना है:-

  • आवेदन करने हेतु आपको महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना है।
मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया
  • वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • इस होम पेज पर आपको Recent Updates के विकल्प पर क्लिक करना है।
Mukhyamantri Vatsalya Yojana Uttarakhand
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के विकल्प पर क्लिक करना है।
Mukhyamantri Vatsalya Yojana Uttarakhand
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना हेतु आवेदन पत्र के विकल्प पर क्लिक करना है।
मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया
  • क्लिक करने के बाद आपके सामने एक पीडीएफ फाइल खुल कर आएगी।
  • इस फाइल में आपको आवेदन पत्र प्राप्त होगा
  • इस आवेदन पत्र को आपको डाउनलोड के बटन पर क्लिक कर डाउनलोड करना है।
  • डाउनलोड करने के बाद आपको इस फॉर्म का प्रिंट आउट निकालना होगा।
  • प्रिंटआउट प्राप्त करने के बाद इस फॉर्म में पूछी गई सभी जानकारी जैसे नाम, जन्मतिथि, धर्म, जाति, आधार नंबर, स्थाई पता, वर्तमान पता, शैक्षिक योग्यता, विद्यालय का नाम, पिता का नाम, पिता का व्यवसाय, पिता की आय, माता का नाम, माता का व्यवसाय, माता की वार्षिक आय, माता का आधार कार्ड, संरक्षण का विवरण, बैंक विवरण आदि दर्ज करना है।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको संबंधित विभाग में आवेदन पत्र जमा कर देना है।
  • आपके पत्र की सफलतापूर्वक जांच के बाद आपको इस योजना का लाभ प्रदान किया जाएगा।

Leave a Comment